Kiran Kumari

जितवारपुर निजामत पंचायत में आम जनता एवं भाकपा माले का आक्रोश DRM एवं नगर निगम समस्तीपुर के खिलाफ उठा सभी लोगों का कहना था कि आज से पहले अंग्रेज हुकूमत के समय से मालगोदाम रोड एवं जिवारपुर सोनेलाल ढाला के पास बने पुलिया को जाम कर दिया गया है। जिससे जितवारपुर मसलनचक एवं समस्तीपुर शहर सहित जितवारपुर हसनपुर गांव में जल जमाव हो जाता है। साथ ही साथ जितवारपुर रेलवे कालोनी, लोकों ब्रेक डाउन कालोनी,डीएस कालोनी एवं आर पी एफ कालोनी में जल जमाव होने से महामारी एवं संक्रामक रोगों का खतरा बढ़ गया है एवं मुख्यालय से जितवारपुर को जोड़ने वाली मुख्य सड़क जिससे मालगोदाम रोड पर भी जलजमाव के कारण पैदल चलने वालों को खतरा को आमंत्रण देने से कम नहीं है। ये तो गनीमत समझिए कोविड 19 लांक डाउन के कारण कालेज एवं कोचिंग संस्थान बंद है, अन्यथा इस क्षेत्र के छात्र छात्राएं कई संक्रामक रोगों/दुर्घटना से रोज़ ही रूबरू हो रहे होते। नौकरी पेशा लोगों, सरकारी या गैर सरकारी उनकी तो दशा पुछिए ही मत!इन समस्याओं से जूझ रहे लोगों ने आज भाकपा (माले) पंचायत कमिटी के बैनर तले DRM एवं नगर निगम समस्तीपुर का पुतला लेकर सोनेलाल ढाला से छोटे लाल चौक तक आक्रोश मार्च निकालकर नारा लगाते हुए डीआरएम शर्म करो जल निकासी की व्यवस्था करो,की नारा लगाते हुए अंत में पुतला दहन किया गया। इस अवसर पर भाकपा माले पंचायत कमिटी सचिव राजकुमार चौधरी, अशोक कुमार,ललन कुमार, नंदकिशोर राय, मिथलेश कुमार राय, कृष्णदेव उर्फ भगवान,भरत कुमार, परमेश्वर, राजेश कुमार, बिनोद कुमार वगैरह सैकड़ों लोग उपस्थित थे। सभी लोगों ने कहा कि अगर रेल/जिला/नगर निगम प्रशासन चिर निद्रा से जागृत नहीं है तो चरणबद्घ आंदोलन किया जाएगा।जिसकी जवाबदेही प्रशासन की होगी।